11 घरों के सपनों का जनाजा

भोपाल में हुए हादसे पर लेखक विजय मनोहर तिवारी की अखबारी कवरेज और कलेक्टर के आत्मज्ञान पर एक गौरतलब टिप्पणी- भोपाल में शुक्रवार की सुबह अखबार आने के पहले मोबाइल पर बहुत विस्तार से पता चल चुका था कि छोटे तालाब में गणेश विसर्जन के समय नाव डूबने से 11 युवक मारे गए हैं। दिन […]

Continue Reading

आरक्षणः संघ की घुटने टेकू मुद्रा

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और सत्तारुढ़ भाजपा की एक ताजा समन्वय गोष्ठी में यह विचार उछला कि संघ जातीय आरक्षण का स्पष्ट समर्थन करता है। यह गहरे विवाद का विषय इसलिए बन गया कि संघ के मुखिया मोहन भागवत ने दो बार स्पष्ट शब्दों में कह दिया था कि आरक्षण की व्यवस्था पर पुनर्विचार किया जाए। […]

Continue Reading

कॅरियर के मझधार में युवा आईएएस के नौकरियां छोड़ने के मायने

देश में मोदी राज की दूसरी पारी में एक के बाद एक आईएएस अधिकारियो द्वारा नौकरी से इस्तीफे की घटनाएं चौंकाने वाली इसलिए है कि अगर राष्ट्र आजादी  के बाद सर्वाधिक चमकीले दौर में प्रवेश कर गया है तो ये अफसर सरकारी ताम झाम और पावर को अलविदा क्यों कह रहे हैं? क्या उन्होंने नौकरी […]

Continue Reading

इंदौर प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष जलधारी नहीं रहे

जलधारी जी ! तनिक और ठहर जाते ओह । फिर एक दुखद खबर । इंदौर के बौद्धिक जगत को अतुल लागू के बाद एक और झटका । दोस्त ,कवि, पत्रकार शशींद्र जलधारी चले गए ।अस्पताल से तो ख़बरें आ रही थीं कि तबियत में कुछ सुधार है । लेकिन सूचना आई तो भरोसा ही नहीं […]

Continue Reading

क्या यही ‘पार्टी विथ डिफरेंस’ है?

§ डॉ.अर्पण जैन ‘अविचल’ उन्नाव से शुरू हुई एक कहानी जिसमें आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार में जनता के प्रतिनिधि है। उन पर उन्नाव बलात्कार मामले में ४ जून २०१७ को १७ वर्षीय लड़की के कथित बलात्कार का आरोप है। इस मामले में अब तक दो आरोप पत्र दाखिल किये जा […]

Continue Reading